कुँड़ुख़ पुना गच्छरना

कुँड़ुख़ ती ब’आ ख़ने , पुना गच्छरना ईद कुँड़ुख़ भखा देव नागरी लिपि ती लिखतार की र’ई। ईद निमा कुँड़ुख़ भखा कच्छनखर’ऊ आलर गे अपन भखा ती पढ़’आरकी धर्मेसी वचन अदिन बग्गे बुझुर’ओर एन्ने सॊच्च’अर ईद लिखतारकी र’ई। औगे ऎम असरा नन्दम का नीम बेस लगे पढ़’ओर ।